मरम्मत पर 3.71 करोड़ खर्च फिर भी बलरामपुर-उतरौला मार्ग खस्ताहाल

Utraula Balrampur road
Utraula Balrampur road

बलरामपुर : खस्ताहाल बलरामपुर-उतरौला मार्ग को चलने लायक बनाने में छह माह के भीतर दो चरणों में तीन करोड़ 71 लाख रुपये खर्च कर दिए गए लेकिन सड़क जस की तस है। सड़क के निर्माण के लिए 101 करोड़ रुपये का प्रस्ताव किया गया है। विभागीय अधिकारी मरम्मत के बाद भी टूटी सड़क के लिए ओवरलोड वाहन को कारण बताकर धड़ाधड़ बजट खारिज कर रहे हैं। भारत-चीन युद्ध के समय पीलीभीत बस्ती मार्ग का निर्माण किया गया था। बलरामपुर से उतरौला तक 28 किलोमीटर लंबा मार्ग पूरी तरह जर्जर है। एक किलोमीटर भी सड़क ऐसी नहीं जिस पर सरपट वाहन दौड़ सकें। खस्ताहाल सड़क को चलने लायक बनाने के लिए वर्तमान व पिछले वित्तीय वर्ष में तीन करोड़ 71 लाख रुपये मिले। पहले चरण में एक करोड़ रुपया दस किलोमीटर लंबे मार्ग को दुरुस्त करने के लिए मिला। दस किलोमीटर सड़क के मरम्मत का कार्य की गुणवत्ता ऐसी थी कि एक तरफ गिट्टी डाली गई तो दूसरी तरफ उखड़ गई। फिर भी संबंधित ठेकेदार को भुगतान मिल गया। इसके बाद चालू वित्तीय वर्ष में विशेष मरम्मत के नाम पर पुन: दो करोड़ 71 लाख रुपये मिला। इस बार पूरे 28 किलोमीटर में मरम्मत कार्य होना था। इसके कुछ माह पूर्व एक करोड़ रुपये से मरम्मत की गई सड़क को भी शामिल किया गया। विशेष मरम्मत का कार्य दो ठेकेदारों के नाम पर हुआ। पूरी सड़क की मरम्मत पंचायत चुनाव के दौरान ही हो गई, लेकिन सड़क के लिए गड्ढे नहीं खत्म हुए। सड़क पर चलने से अभी भी लोग कांपते है। अब सड़क के नए सिरे से निर्माण के लिए लोकनिर्माण विभाग प्रांतीय खंड ने पुन:प्रस्ताव किया है।

-इस बार 101 करोड़ का प्रस्ताव

बलरामपुर से उतरौला तक कुल 28 किलोमीटर लंबी सड़क के निर्माण व चौड़ीकरण के लिए 101 करोड़ रुपये का प्रस्ताव विभाग ने किया है। दस मीटर चौड़ी सड़क का निर्माण प्रस्तावित है। विभागीय अधिकारी इसी माह में स्वीकृत होने की उम्मीद जता रहे है।

-दो सड़कों के लिए मिला बजट

बलरामपुर उतरौला मार्ग महेशभारी से भैंसहवा घाट तक करीब 13 किलोमीटर लंबी सड़क के विशेष मरम्मत कार्य के लिए एक करोड़ रुपये मिले हैं। बेलहा मोड़ से गौरा चौराहा कुल 12.3 किलोमीटर लंबी सड़क के निर्माण के लिए एक करोड़ 25 लाख रुपये की मंजूरी मिली है। टेंडर की प्रक्रिया चल रहीं है। शीघ्र ही निर्माण कार्य शुरू होगा।

बलरामपुर -गोंडा करीब 40 किलोमीटर लंबी सड़क निर्माण के लिए 140 करोड़ रुपये मिला है। इस मार्ग पर भी कार्यदायी संस्था ने कार्य शुरू कर दिया है। बलरामपुर-उतरौला सड़क के मरम्मत पर तीन करोड़ 71 लाख खर्च हुआ है। सड़क बनते ही टूटी गई यह सही है। इसका मुख्य कारण चीनी मिल के ओवरलोड वाहन हैं। 20 टन क्षमता वाली सड़क पर 50-60 टन माल लेकर वाहन निकलते हैं। इसलिए सड़क छह माह भी नहीं टिकती है। मरम्मत कार्य की डीएसी जांच के लिए लिखा गया है।

-सुग्रीवराम

अधिशासी अभियंता, लोक निर्माण विभाग

Source: Jagran.com

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *